Thursday, September 27, 2012

किरण 
=================

आशाओ कि किरण है वो
उम्मीदो का साया है
मेरे तनहा से जीवन मे
कुछ पल खुसीओं की लाई है

समय के पहिये ने
उसे खूब घुमाया है
कुछ घाव दिए गहरे
और बेवजह सताया है

उन गहरे घाओ पर
उसकी हँसी का साया है
ये किरन ही है जिसने
अपने अन्दर के किरण को बचाया है

है चंचल सी अदा उसकी
जो हर दर्द छुपाती है
पर न जाने मुझ मे क्या है
जो वो हर बात बताती है

कुछ ख्वाइस है उसकी
कुछ सपनो के ताने बाने है
साथ मे चलके
उन सब को पुरा करने का
वक़्त अब आया है


आशाओ कि किरण है वो
उम्मीदो का साया है ......










No comments: